ईदगाह कहानी से क्या शिक्षा मिलती है ?

‘ईदगाह‘ प्रेमचंद द्वारा रचित एक प्रसिद्ध कहानी है।

इस कहानी का प्रमुख पात्र हामिद है।

उसके माता-पिता नहीं हैं, दादी माँ ही उसका पालन-पोषण करती हैं।

ईद के मेले में हामिद अपने दोस्तों के साथ जाता है |

उसके सभी दोस्त अपनी-अपनी पसंद के खिलौने खरीदते हैं, लेकिन हामिद अपने दादी के लिए चिमटा खरीदता है |

क्योंकि चूल्हे पर खाना बनाते समय दादी का हाथ जल जाता था।

हामिद की चतुराई से प्रभावित होकर उसके मित्र उसके तीन पैसे के चिमटे को अपने खिलौनों से श्रेष्ठ मानते हैं ।

ईदगाह कहानी से यह शिक्षा मिलती है कि व्यक्ति को प्रत्येक कार्य सोच-समझकर करना चाहिए ।

सामर्थ्य के अनुसार काम करने पर व्यक्ति प्रशंसा का पात्र बनता है ।

इस कहानी का उद्देश्य यह भी बताना है की “अपनों के प्रति प्रेम और त्याग की भावना होनी चाहिए” |