संस्मरण साहित्य क्या है? इसके बारे में जानकारी प्राप्त कीजिए ।

संस्मरण का अर्थ है ‘सम्यक् स्मरण’। किसी व्यक्ति अथवा घटना को याद करके अपने निजी अनुभवों को लिखना संस्मरण कहलाता है। इसके लिए आवश्यक है कि लेखक की व्यक्ति या घटना के साथ प्रत्यक्ष तथा निकट का संबंध रखे। इसमें ‘मैं’ शैली का प्रयोग होता है। लेखक का उद्देश्य स्मरणीय व्यक्ति का प्रभाव पाठकों तक पहुँचाना होता है। प्रायः संस्मरण प्रेरणा देने वाले होते हैं। धार्थिक संस्मरण सबको प्रभावित करते हैं। महादेवी वर्मा रचित ‘पथ के साथी’ राहुल सांस्कृत्यायन द्वारा रचित ‘शांति निकेतन में’ श्रेष्ठ संस्मरण हैं।