राजस्थानी भाषा को अपभ्रंश की जेठी बेटी क्यों कहा जाता

राजस्थानी भाषा, जिसे अपभ्रंश की जेठी बेटी कहा जाता है, एक अद्वितीय भाषा है जो भारतीय साहित्य और संस्कृति का अमूल्य अंग है। इस लेख में, हम इस अद्भुत भाषा की महत्वपूर्णता पर गहराई से बात करेंगे और उसे अपभ्रंश की जेठी बेटी क्यों कहा जाता है, इस पर चर्चा करेंगे।

राजस्थानी भाषा का विशेषता

राजस्थानी भाषा एक समृद्ध भाषा है जिसे विभिन्न भागों में व्यापकता से बोला जाता है। इसकी विशेषता यह है कि यह अपभ्रंश की जेठी बेटी कहलाती है, जिसका मतलब है कि इसे उच्च स्थान पर रखा जाता है और इसे भाषा की राजकुमारी के रूप में देखा जाता है।

साहित्यिक महत्व

राजस्थानी भाषा ने भारतीय साहित्य को अपनी अद्वितीयता से समृद्ध किया है। इसे अपभ्रंश की जेठी बेटी कहने का कारण यह है कि इसने साहित्यिक भाषा के रूप में विकसित होकर अन्य प्रदेशों की प्राकृतिक भाषाओं पर भी प्रभाव डाला है।

भाषा का आभूषण

राजस्थानी भाषा को अपभ्रंश की जेठी बेटी कहने का एक और कारण है इसकी सुंदरता और आभूषण से भरी हुई भाषा का होना। इसमें शौरसेनी और महाराष्ट्री का सार्थक आपसी मेलजोल होता है, जिससे यह एक अद्वितीय भाषा बनती है।

डॉ. बाहरी की राय

हाल ही में, डॉ. बाहरी ने अपभ्रंश को हिंदी और प्राकृत के बीच की स्थिति मानने से इनकार किया है। उनका कहना है कि अपभ्रंश के लक्षण अधिकतर शौरसेनी और महाराष्ट्री के हैं, और इसे सारे हिंदी प्रदेशों की बोलियों की जननी नहीं माना जा सकता।

निष्कर्ष

इस पूरे विवाद में, हम देखते हैं कि राजस्थानी भाषा को अपभ्रंश की जेठी बेटी कहने के पीछे अनेक कारण हैं। इसने साहित्यिक और सांस्कृतिक दृष्टि से भारतीय समाज को समृद्ध किया है और इसका महत्वपूर्ण स्थान है।

अंतर्निहित सौंदर्य

राजस्थानी भाषा का अंतर्निहित सौंदर्य है जो इसे विशेष बनाता है। इसमें भारतीय संस्कृति का आभूषण है और यह साहित्यिक रूप में उच्चता को प्राप्त करने के बाद भी लोगों के दिलों में स्थान बनाए रखता है।

राजस्थानी भाषा को अपभ्रंश की जेठी बेटी कहने का यह संवेदनशील संदेश है कि इसे एक अद्वितीय और मौलिक भाषा के रूप में देखा जाना चाहिए। इसने भारतीय साहित्य और सांस्कृतिक सारंगी में अपनी ध्वनि बजाई है और इसे उच्च स्थान पर रखा है।

इस पूरे लेख के माध्यम से हमने देखा कि राजस्थानी भाषा को अपभ्रंश की जेठी बेटी कहने का कोई एक ही कारण नहीं है, बल्कि इसमें उसकी साहित्यिक, सांस्कृतिक, और भाषातात्कालिक महत्वपूर्णता है।