भाषा भारती कक्षा 5 Solutions Chapter 10 रम्मो और कल्लो प्रश्न उत्तर

भाषा भारती कक्षा 5 (पाठ 10) रम्मो और कल्लो प्रश्न उत्तर

(क) रधिया की लड़कियों के क्या नाम हैं?
उत्तर:- रधिया की लड़कियों के नाम रम्मो और कल्लो हैं ।
(ख) रम्मो और कल्लो ने पढ़ाई-लिखाई क्यों नहीं की थी?
उत्तर:- रम्मो और कल्लो ने पढ़ाई-लिखाई इसलिए नहीं की थी, क्योंकि उन्हें पढ़ाई करने का अवसर नहीं मिला और घर के कामों में ही व्यस्त रहना पड़ता था।
(ग) बाबूजी दोनों बहनों को क्यों पढ़ाना चाहते थे?
उत्तर:- बाबूजी दोनों बहनों को पढ़ाना चाहते थे क्योंकि उन्हें उनमें अपनी पुत्रियों का भास हुआ। । वह इन्हें शिक्षित बनाकर समाज में स्वतंत्र और सशक्त बनाना चाहते थे। उन्होंने यह महसूस किया कि इन बहनों को सिर्फ सफाई करने के लिए रखना उचित नहीं है, बल्कि उन्हें भी अच्छी शिक्षा का हक है ताकि वे अपने जीवन को बेहतर बना सकें और समाज में योगदान कर सकें। इससे वह बहनें न केवल अपने जीवन को सुधार सकतीं थीं, बल्कि वे भी समाज में सकारात्मक परिवर्तन ला सकतीं थीं।
(घ) रधिया लड़कियों को क्यों नहीं पढ़ाना चाहती थी?
उत्तर:- रधिया के समाज में कोई पढ़ा-लिखा नहीं था। वह सोचती थी कि लड़कियों को पढ़ा-लिखाकर पढ़े-लिखे लड़के शादी के लिए ढूँढ़ने पड़ेंगे और फिर उसके काम में हाथ कौन बटाएगा। इस दृष्टिकोण से रधिया ने अपनी लड़कियों को पढ़ाई नहीं कराई ताकि उन्हें घर के कामों में ही समर्थ बनाया जा सके, जो समाज में स्वीकृति पाने में सुरक्षित था। इस प्रकार, उसकी सोच में समाज की परंपराएं और धाराएं भी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही थीं।
(ङ) बाबू जी ने लड़कियों को पढ़ाने लिखाने में किस प्रकार सहायता की?
उत्तर:- बाबूजी ने लड़कियों को पढ़ाने-लिखाने में बहुत अच्छी तरह से सहायता की। उन्होंने यह सुनिश्चित किया कि लड़कियाँ सुबह माँ के साथ काम करतीं हैं और दोपहर में वे उन्हें पढ़ाते हैं। उनकी पढ़ाई की कॉपी-किताबों का खर्च भी बाबूजी ने स्वयं उठाया और इसके बदले में वे उनसे कुछ नहीं लेते थे। इसके माध्यम से, बाबूजी ने न केवल उन्हें शिक्षा देने का समर्थन प्रदान किया बल्कि उन्हें एक सकारात्मक माहौल में पढ़ाई करने का अवसर भी दिया। इससे वह अधिक से अधिक ज्ञान प्राप्त कर सकतीं और अपने भविष्य को सुधार सकतीं थीं।
(च) रम्मो और कल्लो को शिक्षक प्रशिक्षण संस्था में किस आधार पर प्रवेश मिला?
उत्तर:- रम्मो को परीक्षाफल के आधार पर और कल्लो को परीक्षाफल एवं खेलों के प्रमाण पत्रों के आधार पर शिक्षा प्रशिक्षण संस्था में प्रवेश मिला। यह प्रशिक्षण दो वर्ष का था।
(छ) पढ़ाई करते हुए भी हम घर के कामो में किस प्रकार मदद कर सकते है ?
उत्तर:- पढ़ाई करते हुए भी हम घर के कामों में मदद कर सकते हैं, जैसे कि भोजन बनाना, सफाई रख-रखाव, और अन्य घरेलू कामों में सहायता करके अपने परिवार के सदस्यों का समर्थन करना।
(ज) बाबूजी ने दोनों लड़कियों का जीवन किस प्रकार बदल दिया?
उत्तर:- बाबूजी ने दोनों लड़कियों को शिक्षित बनाकर उन्हें शिक्षिका बनाया, जिससे उनका जीवन पूरी तरह से बदल गया। उन्हें दूसरों के घरों में काम करने की बजाय अब उन्होंने शिक्षा के क्षेत्र में अपना करियर बनाया। बाबूजी ने इस प्रकार उन्हें समाज में सम्मान और आत्मनिर्भरता की ओर एक नया कदम बढ़ाते हुए उनके जीवन को सकारात्मक रूप में परिवर्तित किया।