बड़े भाई साहब की स्वभावगत विशेषताएँ बताइए |

बड़े भाई साहब छोटे भाई से पाँच साल बड़े थे, लेकिन केवल तीन बड़े कक्षा आगे थे। वे लेखक को सही राह दिखाना अपना कर्त्तव्य समझते थे।

बड़े भाई साहब की स्वभावगत विशेषताएँ इस प्रकार हैं :-
परिश्रमी एवं अध्ययनशील:- बड़े भाई साहब अत्यन्त परिश्रमी थे। वे दिन-रात मेहनत से पढ़ा करते थे। उन्हें चित्र बनाने का शौक था। वे आराम के क्षणों में भी जानवरों के चित्र बनाते थे।
संयमी और कर्त्तव्यपरायण:- उनका मन खेलने और पतंग उड़ाने का करता था। वह मेलों और उत्सवों में भाग लेना चाहते थे परन्तु छोटे भाई को सही राह दिखाने के कारण वह स्वयं अपनी इच्छाओं पर नियन्त्रण कर लेते थे।
आदर्श भाई:- वे एक आदर्श बड़े भाई थे और आदर्श बड़े भाई के समान ही व्यवहार करते थे। वे सोचते थे कि यदि वह स्वयं सही राह पर न चलेंगे तो छोटे भाई को कैसे संभालेंगे।
आदरशील:- बड़े भाई साहब अपने से बड़ों का आदर करते थे। वह अपने से बड़ों, अपने माता-पिता तथा गुरुजनों का सम्मान करते थे। वे बड़ों के अनुभवों का भी सम्मान करते थे। वे समय-समय पर छोटे भाई को उदाहरण भी दिया करते थे।
कठोर एवं अनुशासित:- वह छोटे भाई के साथ कठोर व्यवहार करते थे और हर समय डाँट-डपट से काम लेते थे। वे छोटे भाई के सामने अपना अनुशासित व्यक्तित्व ही प्रस्तुत करते थे।