जीवन सारणी को परिभाषित कीजिए तथा जीवन सारणी के घटकों की व्याख्या कीजिए।

जीवन सारिणी के अन्तर्गत विभिन्न आयु-वर्ग के व्यक्तियों के जीवित रहने और उनकी मृत्यु की संभावनाओं को व्यक्त किया जाता है। यह विभिन्न आयु वर्ग के व्यक्तियों के जीवन प्रत्याशा और मृत्यु की गणितीय माप प्रस्तुत करता है इसको दो भागों में बांट सकते है

1. पूर्ण जीवन तालिका- इसमें मृत्यु क्रम को एक वर्षीय वर्गों में प्रदर्शित किया जाता है।

2. संक्षिप्त जीवन तालिका- इसमें मृत्यु क्रम को एक वर्षीय वर्ग में न रखकर बल्कि 5 वर्षीय वर्गों में प्रदर्शित किया जाता है।

जीवन तालिका के 8 कम्पोनेंट होते है। x, lx, dx, qx, Px, Lx, Tx, Ix आदि।

जन्म-दर तथा मृत्यु-दर की सूचना विभिन्न आयु तथा लिंगों में जीवन सारणी के रूप में संयुक्त की जा सकती है।

इसके द्वारा समष्टि की वृद्धि का अनुमान लगाया जा सकता है जैसा कि उत्तरजीविता वक्रों में होता है, जीवन सारणी को मानकीय (Standardised) करके कोहार्ट (Cohart) की प्रगति का पता लगाया जा सकता है।

प्रत्येक सारणी में व्यष्टियों की आयु के लिए कॉलम्स(Columns), प्रत्येक आयु की जीविता की संख्या, प्रत्येक आयु समूह में मरने वालों की संख्या, पिछली आयु श्रेणी में मरने वालों का अनुपात, उर्वरता दर तथा प्रत्येक आयु समूह के नवजात जवानों की संख्या पायी जाती है।

इन आँकड़ों से प्राप्त सूचना द्वारा समष्टि की शुद्ध कुल जननात्मक दर (Net Reproductive Rate) ज्ञात हो जाती है।