चादर अपरदन किसे कहते हैं

जब जल तेजी से बहता है तो उसकी विभिन्न धाराएँ मृदा को कुछ गहराई तक काटकर धरातल पर नालियाँ व गड्ढे बना देती हैं। इस प्रकार के अपक्षरण को अवनालिका अपरदन (Gully Erosion) कहते हैं।

ऐसी भूमि जोतने के योग्य नहीं रहती और इसे उत्खात भूमि (Bad Land ) कहते हैं।

चम्बल बेसिन में इस प्रकार की भूमि को खड्ड (Ravine) भूमि कहते हैं। कभी-कभी जल विस्तृत क्षेत्र को ढके हुए ढाल के साथ नीचे की ओर प्रवाहित होता है। ऐसी स्थिति में इस भू-भाग की ऊपरी मृदा घुलकर जल के साथ बह जाती है। इसे चादर अपरदन (Sheet Erosion) कहते हैं।