तुलसी के भाषा सौंदर्य पर दस पंक्तियाँ लिखिए।

  • Post
Viewing 0 reply threads
  • उत्तर
      Shivani
      Participant
        • तुलसीदास कृत रामचरितमानस को अवधी भाषा में लिखा गया है।
        • रामचरितमानस के बालकांड से यह काव्यांश लिया गया है। इसमें शुद्ध रुप से अवधी भाषा का प्रयोग किया गया है।
        • इसमें दोहा, चौपाई, छंद का बहुत ही खूबसूरत प्रयोग किया गया है। इसके कारण इस काव्य के सौंदर्य और आनंद में कई गुना वृद्धि हुई है और
        • भाषा में एक प्रकार की लयबद्धता भी बनी हुई है।
        • अलंकारो के सटीक प्रयोग ने प्रयुक्त भाषा को सुंदर और संगीतात्मक रूप दिया है।
        • इसमें अनुप्रास, रुपक, उत्प्रेक्षा व पुनरुक्ति अलंकारों की अधिकता देखने को मिली है। इस काव्याँश की भाषा में व्यंग्यात्मकता का सुंदर संयोजन हुआ है।
        • चौपाई ने छंदों के सौन्दर्य को और भी स्पष्ट कर दिया है। दोहा और सोलसा का प्रयोग भी देखने को मिलता है। हार को कोमल शब्दों से बनाया गया था।
        • कविता की पंक्तियाँ संगीत की तरह हैं। काव्य सौन्दर्य और शुद्ध अवधी भाषा का प्रयोग भाषा को मधुर बनाता है।
    Viewing 0 reply threads
    • You must be logged in to reply to this topic.