श्वेताम्बर और दिगम्बर किस धर्म के हैं?

    प्रश्नकर्ता meeso
    Participant
Viewing 1 replies (of 1 total)
  • उत्तर
    उत्तरकर्ता jivtarachandrakant
    Moderator

    श्वेताम्बर और दिगम्बर जैन धर्म  के हैं

    जैन धर्म के आदि संस्थापक एवं प्रथम तीर्थंकर ऋषभदेवथे। परन्तु जैन धर्म के वास्तविक संस्थापक के रूप में महावीर स्वामी  को माना जाता है।

    यह जैन धर्म के 24वें एवं अंतिम तीर्थंकर थे।  इनका जन्म 540 ई.पू. वैशाली के निकट कुण्डलग्राम में हुआ था।

    इनके पिता सिद्धार्थ वज्जि संघ (ज्ञात्रक कुल) के प्रमुख सदस्य थे तथा माता त्रिशला लिच्छवि कुल के प्रमुख चेटक की बहन थी।

    इनकी पत्नी का नाम यशोदा तथा पुत्री अणोज्या थी। तीस वर्ष की अवस्था में महावीर ने संन्यास ग्रहण कर लिया तथा 12 वर्ष की  कठिन तपस्या के पश्चात इन्हे जृम्भिकग्राम के समीप ऋजुपालिका नदी के तट पर एक शाल वृक्ष के नीचे ज्ञान की प्राप्ति हुई।

    ज्ञान प्राप्ति के पश्चात इन्होंने पहला उपदेश राजगृह में दिया। 30 वर्ष तक जैन मत का प्रचार करने के पश्चात 72 वर्ष की अवस्था में (468 ई.प.) राजगह के निकट पावा में इनकी मृत्यु हो गयी।

    इनकी मृत्य के |पश्चात आर्य सुधर्मा जैन धर्म का प्रथम थेरा या मुख्य उपदेशक बना। लगभग 300 ई.पू. में मगध में 12वर्षों का भीषण अकाल पड़ा जिसके कारण भद्रवाह अपने शिष्यों सहित कर्नाटक चले गये किन्तु कुछ अनुयायी स्थूल भ्रद के साथ मगध में ही रुक गये।

    भ्रदबाहु के वापस आने पर मगध के साधुओं में मतभेद हो गया जिसके परिणामस्वरूप जैनमत श्वेताम्बर और दिगम्बर दो सम्प्रदायों में बंट गया। स्थूलभद के शिष्य श्वेताम्बर (श्वेत वस्त्र धारण करने वाले) तथा भद्रबाह के शिष्य दिगम्बर (नग्न रहने वाले) कहलाए।

Viewing 1 replies (of 1 total)
  • इस प्रश्न पर अपना उत्तर देने के लिए कृपया logged in कीजिये