वाच्य किसे कहते हैं ? वाच्य के कितने भेद हैं ?

    प्रश्नकर्ता jid
    Participant
Viewing 1 replies (of 1 total)
  • उत्तर
    उत्तरकर्ता jivtarachandrakant
    Moderator

    वाच्य-   कर्ता, कर्म अथवा भाव के विषय में क्रिया के विधान का बोधक रूप वाच्य कहलाता है.

    वाच्य के तीन भेद हैं

    (क) कर्तृवाच्य- वाक्य का उद्देश्य क्रिया का कर्ता है. इस तथ्य को बताने वाला क्रिया का रूपान्तर कर्तृवाच्य कहलाता है. यथा-पूनम ने रोटी बनाई

    (ख) कर्मवाच्य- वाक्य का उद्देश्य क्रिया का कर्म है. इस तथ्य को क्रिया का रूपान्तर कर्मवाच्य कहलाता है. यथापूनम से रोटी बनाई गई.

    (ग) भाववाच्य- यह क्रिया का वह रूपान्तर है, जो बोध कराता है कि वाक्य के उद्देश्य क्रिया का कर्ता अथवा कर्म कोई नहीं है. यथा-मुझसे पढ़ा नहीं जाता.

Viewing 1 replies (of 1 total)
  • इस प्रश्न पर अपना उत्तर देने के लिए कृपया logged in कीजिये