महाभारत में गंगा पुत्र के नाम से किसे जाना जाता है

    प्रश्नकर्ता krish12
    Participant
Viewing 1 replies (of 1 total)
  • उत्तर
    उत्तरकर्ता jivtarachandrakant
    Moderator

    महाभारत में गंगा पुत्र के नाम से भीष्म पितामह को  जाना जाता है

    महाभारत कालीन गंगा पुत्र भीष्म पितामह की कथा सभी को मालूम है। उन्हें इच्छा मृत्यु का वरदान प्राप्त था।

    कुरुक्षेत्र में अर्जुन ने उन्हें सहस्रों बाण से भेदित कर दिया।

    वे शरशैया में लेटे हुये 58 दिनों तक जीवित रहे तथा सूर्य के उत्तरायण होने की प्रतीक्षा करते रहे। क्योंकि मान्यता थी की सूर्य के उत्तरायण होने पर यदि प्राण त्यागा जाये तो आत्मा को सद्गति प्राप्त होती है।

    युद्धविराम के बाद कृष्ण सहित सभी पांडव और उनके परिजन लगातार 58 दिनों तक युद्ध भूमि में भीष्म पितामह के शरशैया के पास जाते, अपनी अपनी संवेदना, ग्लानि व्यक्त करते।

    भीष्म सभी को ढाढस बंधाते रहे, उन्हें ज्ञान नीति का उपदेश देते। उन्होंने अपनी मृत्यु के लिये स्वत: को उत्तरदाई बताया। किसी अन्य को आक्षेपित नहीं किया।

Viewing 1 replies (of 1 total)
  • इस प्रश्न पर अपना उत्तर देने के लिए कृपया logged in कीजिये