‘ प्रातहि जगावत गुलाब चटकारी दे’-इस पंक्ति का भाव स्पष्ट कीजिए।

    प्रश्नकर्ता mamta
    Participant
Viewing 1 replies (of 1 total)
  • उत्तर
    उत्तरकर्ता Shivani
    Participant
    • गुलाब की कलियों के जल्दी खिलने से ‘चैट’ की आवाज निकलती है।
    • उन्होंने फूलों की मदद से वसंत की तरह बच्चे को जगाने की बात कही है।
    • देवी कहती हैं कि जब वह गुलाब के खिलने की कल्पना करती हैं, तो ऐसा लगता है कि वह वसंत की तरह एक बच्चे को चुटकी बजाकर जगाने की कोशिश कर रही है।
    • इस पाठ में कवि ने अपने काव्य-कौशल से प्रकृति के सौन्दर्य को बढ़ाया है। कवि ने चंद्रमा, सितारों और भगवान कृष्ण के आकार को व्यक्त करने के लिए सुंदर आलंकारिक चित्रों का भी उपयोग किया है।
Viewing 1 replies (of 1 total)
  • इस प्रश्न पर अपना उत्तर देने के लिए कृपया logged in कीजिये