चादर अपरदन किसे कहते हैं

    प्रश्नकर्ता preeti
    Participant
Viewing 2 replies - 1 through 2 (of 2 total)
  • उत्तर
    उत्तरकर्ता jivtarachandrakant
    Moderator

    इस प्रकार के अपरदन में तेज वर्षा का जल जो तीव्र ढाल या पहाड़ी से होकर निकलता है तो अपने साथ मिट्टी की ऊपरी उपजाऊ परत को बहाकर ले जाता है

    जिसके कारण मिट्टी की ऊपरी परत का स्थानान्तरण हो जाता है और भूमि बंजर हो जाती है।

    इस अपरदन का मुख्य कारण है, वनों की कमी व अत्यधिक चराई का होना  वन व वनस्पति मृदा को बाँधकर रखते हैं और उसे बहने से रोकते हैं इनके न होने से पानी द्वारा मृदा को आसानी से बहाकर ले जाया जाता है चादर अपरदन कहते हैं

    उत्तरकर्ता meenakshi
    Participant

    जब जल तेजी से बहता है तो उसकी विभिन्न धाराएँ मृदा को कुछ गहराई तक काटकर धरातल पर नालियाँ व गड्ढे बना देती हैं। इस प्रकार के अपक्षरण को अवनालिका अपरदन (Gully Erosion) कहते हैं।

    ऐसी भूमि जोतने के योग्य नहीं रहती और इसे उत्खात भूमि (Bad Land ) कहते हैं।

    चम्बल बेसिन में इस प्रकार की भूमि को खड्ड (Ravine) भूमि कहते हैं। कभी-कभी जल विस्तृत क्षेत्र को ढके हुए ढाल के साथ नीचे की ओर प्रवाहित होता है। ऐसी स्थिति में इस भू-भाग की ऊपरी मृदा घुलकर जल के साथ बह जाती है। इसे चादर अपरदन (Sheet Erosion) कहते हैं।

Viewing 2 replies - 1 through 2 (of 2 total)
  • इस प्रश्न पर अपना उत्तर देने के लिए कृपया logged in कीजिये